Monday, July 22, 2024
Home > Uncategorized > अंकिता केस: आरोपियों पर फूटा महिलाओं का गुस्सा, बीच सड़क पर पुलिस की गाड़ी रोक कर पीटा

अंकिता केस: आरोपियों पर फूटा महिलाओं का गुस्सा, बीच सड़क पर पुलिस की गाड़ी रोक कर पीटा

उत्तराखंड में अंकिता हत्याकांड के आरोपियों पुलकित आर्य, अंकित और सौरभ भास्कर के साथ लोगों ने मारपीट की है. घटना उस वक्त हुई, जब आरोपियों को पुलिस न्यायालय में पेश करने के लिए कोटद्वार लेकर जा रही थी. इसी दौरान बैराज पुल से आगे कोडीया में सैकड़ों ग्रामीणों ने पुलिस की गाड़ी रोक ली. मामले में सभी आरोपियो को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

इस दौरान मामले को कवर कर रहे पत्रकारों के साथ भी ग्रामीणों ने अभद्रता की और उनके मोबाइल छीन लिए. गौरतलब है कि अंकिता भंडारी पौड़ी गढ़वाल जिले के यमकेश्वर विधानसभा इलाके के एक प्राइवेट रिसॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट थी.

उसकी पहाड़ी से नीचे गंगा में धक्का देकर हत्या कर दी गई थी. अभी तक अंकिता का शव बरामद नहीं हुआ है. पुलिस और SDRF की टीमें तलाशी अभियान चला रही हैं. 19 साल की अंकिता 18-19 सितंबर से गायब थी. सोशल मीडिया पर गुमशुदा की तलाश के लिए कैंपेन चल रहा था.

इस मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने बताया कि 18 तारीख की रात में अंकिता की हत्या कर दी गई थी. पुलिस ने इस मामले में बीजेपी नेता के बेटे पुलकित आर्य सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया. पुलकित आर्य के रिसॉर्ट में अंकिता रिसेप्शनिस्ट थी.

सीएम बोले- बख्शे नहीं जाएंगे आरोपी
वहीं, सीएम पुष्कर सिंह धामी ने भी मामले में पुलिस महानिदेशक को सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं, जिस किसी ने ये जघन्य अपराध किया है, उसे हर हाल में कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी। पुलिस अपना काम कर रही है। न्याय दिलाना सुनिश्चित किया जाएगा।

‘24 घंटे के भीतर मामले को सुलझा’
डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि कल जिला अधिकारी द्वारा ये मामला लक्ष्मण झूला पुलिस को सौंपा गया। 24 घंटे के भीतर मामले को सुलझा लिया गया. इसमें रिसॉर्ट का मालिक आरोपी निकला। मालिक पुलकित समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। लड़की 5-6 दिन पहले लापता हो गई थी। रिसॉर्ट का क्षेत्र नियमित पुलिस थाना क्षेत्र में नहीं आता है। यहां पटवारी पुलिस व्यवस्था है और उसके तहत मुकदमा दर्ज किया गया, जो रिसॉर्ट के मालिक की ओर से किया गया था।